पंजाबी लड़की को लंड भा गया



loading...

हेलो फ्रेंड, इ ऍम अमित फ्रॉम जयपुर. मैं आप लोगो के साथ फिर अपनी एक न्यू स्टोरी शेयर करने जा रहा हु. आई होप आपको ये अच्छी लगेगी और आपके मेल्स आयेंगे. फ्रेंड, आपको तो पता ही है, कि मैं अपनी स्टोरी में किसी काम नाम नहीं लिखता. तो आज भी मैं किसी का नाम नहीं लिखूंगा; पर मेरी कोशिश रहेगी, कि आपको कहानी पढ़कर मज़ा आये. पहले तो फ्रेंड्स, मैं आप को अपने बारे में बता दू. मेरे लंड का साइज़ ६.५ इंच है और मेरी हाइट ५’८” है और मेरी बॉडी जिम फिट बॉडी है. आज मैं आपको अपने कामसूत्र की कहानी अपनी एक फेन के साथ हुई बता रहा हु. मेरी पुरानी कहानी पढने के बाद, मुझे एक लड़की का मेल आया. उसने बताया, कि वो जयपुर में एक हॉस्टल में रहती है. ३ दिन तक हम लोगो मेल्स के थ्रू बातें की और फिर हम दोनों फेसबुक पर भी फ्रेंड बन गये और वहां पर हम लोगो ने चैटिंग शुरू कर दी. कुछ दिनों बाद, उसने मेरा नंबर माँगा और मैने उसे अपना नंबर दे दिया. उसने मुझे अपना नंबर भी दिया. अब हम लोगो की बातें फ़ोन पर भी होने लगी थी. एकदिन हम लोगो ने मिलने का प्रोग्राम बनाया और हम फ्रेंड्स की तरह मिले. हम लोगो ने साथ में मूवी देखी. माफ़ कीजिये दोस्तों, मैं आपको उसके बारे में बताना भूल गया.

वो एक पंजाबी लड़की थी और आप लोगो को तो पता ही होगा, की पंजाबन की बॉडी फिटिंग कैसी होती है. उसके बूब्स का साइज़ ३४ था और दिखने में एकदम मस्त गोरी चिट्टी थी. वहां पर मैने एक पीछे की सीट ली और मूवी थोड़ी निकलने के बाद एक सेक्सी सीन आया, तो मैने उसके पैर अपना हाथ फिरना शुरू कर दिया. वो तो पहले ही बहुत गरम थी और उसने मेरी तरफ बहुत ही प्यारी और प्यासी नजरो से देखा. मैने बड़ी से बैचेनी से उसको पकड़ लिया और अपने पास खीच लिया और उसको किस करने लगा. मैं उसके होठो को बड़ी जोर से चूस रहा था और मेरे चुम्बन से उसके होठ लाल हो गये थे. फिर मै अपने एक हाथ से उसके बूब्स को दबाने लगा. वो एकदम से गरम हो गयी और उसने मेरा लंड पकड़ लिया और पेंट के ऊपर से ही हिलाने लगी. मेरा लंड पेंट फाड़कर बाहर निकलने को बेताब हो रहा था. मैने अपना एक हाथ उसकी जीन्स में डाल दिया और उसकी चूत को सहलाने लगा. वो इतनी गरम हो गयी, कि हॉल में ही सिस्कारिया लेने लगी.

तो पहले मैने अपने आपको कण्ट्रोल किया और पूछा, कि करने का मूड है क्या? वो कुछ नहीं बोली, बस मेरी तरफ देखती रही और फिर मैं समझ गया. हम लोगो आधी मूवी बीच में ही छोड़कर हॉल से बाहर निकल गये. मैंने अपनी बाइक निकाली. उसको अपनी बाइक पर बैठ्या और अपने रूम में चले गया. मेरा रूम सेपरेट है तो वहां मकानमालिक की कोई टेंशन नहीं है. हम वहां गये और मैंने बाइक अन्दर की और अन्दर आ गया. अन्दर आते ही, वो मुझसे लिपट और किस करने लगी. मैं भी उसे किस कर रहा था. मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और किस करने के साथ-साथ उसके बूब्स दबाने लगा. अब मैं भी आउट ऑफ़ कण्ट्रोल हो चूका था. मैंने उसका टॉप उतार दिया और अब वो मेरे सामने ब्रा में थी. उसने रेड कलर की वाइट डॉट वाली ब्रा पहन रखी थी. जिस में वो एकदम मस्त लग रही थी. अब मुझसे भी कण्ट्रोल नहीं हो रहा था और मैंने उसकी ब्रा भी खोल दी और उसके मुलायम बूब्स चूस ने लगा.

वो बुरी तरह से सिस्कारिया ले रही थी अहहहहहः अहहहः ऊह्ह्ह्हह्ह प्लीज फक में. अब मैंने ज्यादा टाइम वेस्ट ना करते हुए, उसकी जीन्स के बटन खोलकर उसकी जीन्स भी उतार दी. अब वो मेरे सामने सिर्फ पेंटी में थी. उसकी चूत पानी छोड़ रही थी. उसकी पेंटी पूरी तरह से गीली हो गयी थी. मैंने अब उसकी पेंटी भी उतार दी और उसकी चूत को सहलाना शुरू कर दिया. फिर उसकी चूत को सहलाते हुए, मैंने अपनी एक ऊँगली उसकी चूत में डाल दी. ऊँगली डालते ही, मुझे पता लग गया, कि वो एक कसी हुई क्वारी चूत है, एकदम सील पैक. उसने पहले कभी सेक्स नहीं किया था. मेरी एक ऊँगली भी उसकी चूत में नहीं जा रही थी. मैंने मेरा लंड उसे अपने मुह में लेने को कहा. पहले तो उसने मना किया और फिर मान गयी. वो मेरे लंड को ऐसे चूसने लगी, जैसे की कोई बच्चा लोलीपोप चूसता है. मुझे बहुत जबरदस्त मज़ा आ रहा था और मुझे लग रहा था, कि मैं जन्नत में पहुच गया हु. वो मेरा लंड चूस रहा थी और मैं उसको ६९ पोजीशन में आ गया. वो मेरे लंड को चूस रही थी और मैं उसकी चूत को चाट रहा था.

उसके मुह में मेरा लंड था और हमने कम से कम २० मिनट तक एक दुसरे के चूत और लंड को चूसते रहे. अब मैंने ज्यादा देर ना करते हुए, उसकी गांड के नीचे तकिया लगाया, जिससे उसकी चूत मेरे सामने आ गयी. फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत पर रखा और हल्का सा शॉट मारा. मेरे लंड की टोपी उसकी चूत के अन्दर चली गयी. उसकी चूत बहुत ही ज्यादा टाइट थी. वो मुझसे कहने लगी, प्लीज इसे बाहर निकालो. मुझे दर्द हो रहा है. मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसको किस करने लगा. साथ-साथ मैं उसके बूब्स भी दबा रहा था. कुछ देर बाद, जब वो नार्मल हुई. मैंने उसको किस करते-करते एक जोरदार धक्का मारा और मेरा पूरा लंड उसकी चूत की दीवारों को चीरता हुआ उसकी चूत में समां गया. वो बेहोश हो गयी. मैंने कुछ देर, अपने लंड को उसकी चूत में ऐसे ही पड़े रहने दिया. करीब १५ मिनट बाद वो फिर से नार्मल महसूस करने लगी, तो फिर से मैंने अपनी गांड को हलके से हिलाते हुए, उसकी चुदाई आरम्भ कर दी. उसको दर्द हो रहा था, पर कुछ देर के बाद उसका दर्द कम हुआ, तो वो चुदाई का मज़ा लेने लगी.

अब वो अपनी गांड को उठाकर मेरा साथ दे रही थी और जोर-जोर से मोअन कर रही थी. अहहहहः अहहहहः ऊऊऊऊऊऊऊ हहहः ufffffffffffff फक मी. फक मी हार्ड. फक में फ़ास्ट. कम ओन. मेरी चूत को फाड़ दो. हमने करीब ३० मिनट तक चुदाई की और इस दौरान वो ३ बार झड़ी और अब मेरी झड़ने की बारी थी. मेरा तेजी से आने वाला था, तो मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर खीच लिया और अपना सारा माल उसके पेट पर छोड़ दिया. हम दोनों काफी देर तक ऐसे ही नंगे एक दुसरे की बाहों में पड़े रहे. फिर हम उठे, तो देखा चादर पर खून फैल गया था और उस दिन मैंने उसे १ ही बार चोदा, क्युकी उसे बहुत दर्द हो रहा था. लेकिन, उसके बाद हमने कई बार सेक्स किया. मैंने उसकी बहन और फ्रेंड को चोदा. वो स्टोरी आपको अपनी अगली स्टोरी में बताऊंगा. मुझे बताना, कि आपको मेरी स्टोरी कैसी लगी!